सफ़र जहाँ

कहते हैं कि हर किसी की कोई मंज़िल होती है
उस मंज़िल की तलाश का अपना एक सफ़र होता है
तुम्हारी मंज़िल क्या थी मालूम नहीं
सफ़र तुम्हारा शायद यहीं तक था

पहली बार जब अपनी उस किताब के दो पन्ने,
थोड़ी घबराहट और बहुत गर्व से सुनाए
तुम्हारा तो पता नहीं
हम सब के दिल में तुमने जगह बना ली

ख़ैर अब लगता है शायद उस दिन तारीफ़ कुछ कम की थी मैंने
शायद इंतेज़ार आख़री दिनों का था
सफ़र तो हम सब का ख़त्म हो रहा था
तुम्हारा सफ़र जहाँ, वहाँ सिर्फ़ सितारे रहते हैं

कईं सीख जो हम सब अपनी भाग दौड़ में छिपाऐ बैठे थे
आज तमाचा बनकर चेहरे पर लगी हैं
मैं हैरान नहीं हूँ की जाते हुए भी तुम वो सिखा गयी
तुम्हें सिर्फ़ प्यार देना जो आता था, निस्वार्थ प्यार!
‘रुको, थमो, देखो, साँस लो और सोचो
सोचो कि क्या हो तुम, सोचो कि कहाँ से आए हो
और कहाँ तक जाओगे तुम
सोचो कि दो पल ठहरना चाहिए इस भीड़ में
रुकना चाहिए और एक मुस्कान बाँटनी चाहिए
इस भीड़ में
सोचो कि मुश्किल को आसान करना है
तो साहस के साथ विनम्र हो जाना चाहिए’

सब कितना छोटा लगता है आज
ज़िंदगी हो या फिर उसका ख़त्म होना
कोई मुश्किल हो या किसी बात को बढ़ाना
सब छोटा लगता है आज

मंज़िल शायद यही थी तुम्हारी
और सफ़र जहाँ, वहाँ सितारे रहते हैं।।

………………….

Safar Jahan

Kehte hain ki har kisi ki koi manzil hoti hai
Uss manzil ki talash ka apna safar hota hai
Tumhari manzil kya thi maloom nahi
Safar tumhaara shayad yahi tak tha

Pehli baar jab apni uss kitab ke do panne
Thodi ghabrahat aur bohot garv se sunaaye
Tumhara toh pta nahi
Hum sab ke dil mei tumne jagah bana li

Kher ab lagta hai shayad uss din taareef kuch kum ki thi maine
Shayad intezaar aakhri dino ka tha
Safar toh hum sab ka khatam ho raha tha
Tumhara safar jahan, wahan sirf sitare rehte hain

Kayi seekh jo hum sab apni bhaag daur me chupaye bethe the
Aaj tamaacha bankar chehre pe lagi hai
Mai hairaan nahi hoon ki jate hue bhi tum vo sikha gayi
Tumhe sirf pyaar dena jo aata tha, niswaarth pyaar!

‘Ruko, thamo, dekho, saans lo aur socho
Socho ki kya ho tum, socho ki kaha se aaye ho
Aur kaha jaoge tum
Socho ki do pal teherna chahie iss bheed mei
Rukna chahie aur ek muskaan baanti chahie
Iss bheed mei
Socho ki mushkil ko asaan karna hai
Toh saahas ke saath vinamr ho jaana chahie’

Sab kitna chotta lagta hai aaj
Zindagi ho ya fir uska khatam hona
Koi mushkil ho ya kisi baat ko badhaana
Sab chotta lagta hai aaj

Manzil shayad yahi thi tumhari
Aur safar jahan, wahan sitare rehte hain.

-SIMRAN CHAWLA

instagram volgers kopen volgers kopen buy windows 10 pro buy windows 11 pro